Khaṛī Bolī kavitā meṃ viraha-varṇana

Передняя обложка
Sarasvatī Pustaka Sadana, 1964 - Всего страниц: 556

Результаты поиска по книге

Отзывы - Написать отзыв

Не удалось найти ни одного отзыва.

Содержание

Раздел 1
1
Раздел 2
13
Раздел 3
23

Не показаны другие разделы: 25

Часто встречающиеся слова и выражения

अतः अधिक अनेक अन्य अपनी अपने अब इत्यादि इस उनका उनकी उनके उन्हें उस उसका उसकी उसके उसे एक एवं ऐसा ऐसे और कर करता है करती करने कवि कविता कवियों का कालिदास काव्य किया है किसी की दृष्टि से कुछ के कारण के प्रति के लिए के लिये के साथ केवल को कोई क्या क्योंकि क्षेत्र जब जा जाता है जाती जीवन जो तक तथा तब तो था थी थे दिया नहीं है ने पर पर भी प्रकट प्रकार प्रभाव प्रसाद प्राप्त प्रिय प्रेम फिर बन बहुत भाव महादेवी महान में भी मैं मैथिलीशरण यदि यह या युग रस रहता है रहा रही रहे राम रूप में वर्णन वह वाले वियोग विरह विरह के विरह-वर्णन वे वेदना सकता है सकती सबसे सभी सर्ग साकेत साहित्य सूर स्थान स्थिति स्पष्ट स्मृति हम हरिऔध हिन्दी ही हुई हुए हृदय है कि हैं हो होकर होता है होती होते होने

Библиографические данные